घुमंतु परिवार से अपहरण की रिपोर्ट लिखाने के नाम पर वसूले 50 हजार रुपए, एसपी के चहेते हैं यहां के चौकी प्रभारी…

अंबिकापुर – उत्तर प्रदेश के जालौन जिले से आकर अंबिकापुर शहर में बिलासपुर चौक के पास डेरे में रहकर जड़ी बूटी बेचने का काम करने वाले परिवार की 12 वर्ष की नाबालिक बालिका को किसी परिचित युवक द्वारा अपहरण कर लेने की शिकायत दर्ज कराने के लिए इस गरीब परिवार को अपने गहने जेवर बेचकर जनता के रक्षक बनकर बैठे पुलिस वालों को 50 हजार रुपये नगद देने की मांग को पूरा करना मजबूरी बन गया इसके बावजूद भी पुलिस द्वारा खोजबीन व मोबाइल लोकेशन के नाम पर 12000 रुपये अलग 10000 रुपये अलग से मांग की गई लाचार वह बेबस जड़ी बूटी बेचने वाले परिजन अपनी पुत्री को ढूंढने के लिए पुलिस को गहने जेवर वह अपनी गाढ़ी कमाई के पैसे देने के बाद भी आज 1 महीने से ज्यादा समय बीत जाने के उपरांत भी पुलिस उसकी पुत्री को ढूंढने में नाकाम रही है।

यह घटना किसी दूरस्थ पुलिस थाने की नहीं है बल्कि जिला मुख्यालय आईजी एसपी के नाक के नीचे अंबिकापुर के मणिपुर पुलिस चौकी का मामला है जहां के प्रभारी प्रमोद यादव द्वारा खुलेआम पैसे की अवैध उगाही की जा रही है नाक के नीचे हो रहे इस प्रकार के कृत्य को देखकर पुलिस के आला अधिकारियों की भूमिका पर भी सवाल खड़े हो रहे हैं आरोप तो यह भी लग रहे हैं कि मणिपुर चौकी प्रभारी प्रमोद यादव आईजी एसपी के बड़े खास हैं और स्थानांतरण के बाद भी चौकी प्रभारी मणिपुर के पद पर डटे हुए हैं शायद पुलिस के आला अधिकारियों को इनसे अच्छा खासा चढ़ावा मिल जाता है।

इस संबंध में पीडित छोटे सिंह पिता सुजानी सिंह ने आरोप लगाते हुए कहा कि वह पिछले कुछ माह पूर्व ही अंबिकापुर के लक्ष्मीपुर में आकर परिवार के सभी लोगों के साथ टेंट लगाकर रहते हैं तथा जड़ी बूटी बेचने का काम करते हैं 1 मार्च की रात को लड़की के परिचित द्वारा उसे बहला-फुसलाकर अपने साथ ले जाया गया लड़की के पिता ने आरोप लगाते हुए कहा कि घटना के बाद जब इसकी रिपोर्ट दर्ज कराने मणिपुर चौकी पहुंचे तो वहां के चौकी प्रभारी द्वारा रिपोर्ट दर्ज नहीं की गई 3 दिन तक लगातार घुमाने के बाद रिपोर्ट दर्ज करने के लिए माने किंतु दो टूक शब्दों में यह शर्त रखे की रिपोर्ट लिखवाने के लिए 50 हजार रुपये लेकर आओ इसके बाद कार्यवाही की जाएगी परेशान वह व्यथित पिता ने अपनी पत्नी के सोने के जेवर को शहर के ही एक ज्वेलरी कन्हैया अलंकार मंदिर में बेचकर तीस हजार रुपए चौकी प्रभारी को देने आरोप लगाया है।

वही पिता ने आरोप लगाते हुए यह भी कहा कि आरोपी का मोबाइल नंबर ट्रेस करने के नाम पर दो हजार रुपए और अलग से लिया गया इसके बाद चौकी प्रभारी प्रमोद यादव ने बताया कि उसका मोबाइल लोकेशन रायपुर बता रहा है रायपुर जाने हेतु अलग से 10हजार रुपए देने होंगे एवं तलाशी के नाम पर 12 हजार रुपए और लेने का भी आरोप परिजन ने चौकी प्रभारी के ऊपर लगाया है इसके बावजूद भी लड़की की तलाश आज पर्यंत तक पुलिस नहीं कर पाई जिसकी शिकायत परिजनों ने आईजी से 23 मार्च को मुलाकात कर न्याय की गुहार लगाई इसके बावजूद भी ना तो आईजी साहब ने कोई एक्शन लिया और ना ही एसपी ने अपहरण शुदा इस परिवार के मामले में कार्यवाही कराना मुनासिब समझा इधर लड़की के माता-पिता का रो रो कर बुरा हाल है और काफी परेशान हैं उनका कहना है कि जनधन भी गया और पुत्री भी वापस नहीं लौटी ऐसे ही संवेदनशील मामलों में तथाकथित ऐसे इक्का-दुक्का भ्रष्ट पुलिस वालों की गैर जिम्मेदाराना कार्य प्रणाली से पूरे पुलिस महकमा को दागदार एवं बदनाम होना पडता है।बहरहाल परिजन अपने नाबालिक 12 वर्षीय पुत्री को वापस लाने दर दर भटक न्याय दिलाने गुहार लगा रहे है।

News

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.