वे इसलिए चिढ़े हुए हैं क्योंकि आपने उन्हें देखना बंद कर दिया है

द कपिल शर्मा शो भारत के हास्य कार्यक्रमों के इतिहास में सबसे सफल और सबसे अधिक चलने वाला शो रहा है। जितना प्रेम कपिल शर्मा को दर्शकों ने दिया, उतना तो उनसे अधिक प्रतिभाशाली राजू श्रीवास्तव को भी नहीं मिला। कपिल गुड लुकिंग हैं, व्यावसायिक संबंध बनाने में माहिर माने जाते हैं और सबसे ऊपर उनके शो के एक प्रोड्यूसर सलमान खान भी हैं। निश्चित ही सलमान का नाम उनके शो को एक व्यावसायिक सामर्थ प्रदान करता है।
सुशांत सिंह राजपूत की हत्या के बाद बॉलीवुड और टीवी इंडस्ट्री देश के नागरिकों के निशाने पर है। उनके निशाने पर कपिल शर्मा कभी नहीं रहे थे लेकिन पिछले दिनों वरिष्ठ अभिनेता अरुण गोविल को शो पर बुलाकर जो भद्दा मज़ाक किया गया, उसके बाद से शो की टीआरपी कम होने लगी थी। रही सही कसर दो दिन पूर्व प्रसारित हुए शो ने पूरी कर दी।
शो के कलाकार कीकू शारदा ने अत्यंत लोकप्रिय पत्रकार अर्नब गोस्वामी की अपमानजनक नकल कर डाली। जब कोई व्यक्तित्व अपने कार्यों से जनमानस को प्रभावित कर लेता हो और उसका इस तरह मज़ाक बनाया जाता है तो इसकी परिणीति घातक होती है। कई बार कलाकार देश में व्याप्त वातावरण का सही आंकलन नहीं कर पाते।

फिर उनसे ऐसी ही गलती हो जाती है, जैसी कपिल शर्मा से हुई है। मुझे आश्चर्य नहीं है कि अर्नब की खिल्ली उड़ाने का जिम्मेदार अप्रत्यक्ष रूप से सलमान ख़ान को माना जा रहा है। वरिष्ठ अभिनेता अरुण गोविल के साथ कपिल शर्मा ने आचरण की सारी सीमाएं लाँघ दी थी। अरुण गोविल को सोचना चाहिए था कि बॉलीवुड के मंच बड़े स्पान्टेनियस होते हैं।
वहां आपके साथ कुछ भी अप्रिय घट सकता है। पूर्व में हम एआईबी जैसे मंच को देख चुके हैं, जहाँ पर करण जौहर, रणवीर सिंह और अर्जुन कपूर अश्लीलता के हर्डल्स पर कूदते दिखाई देते हैं। वहां करण जौहर ये भी बताते हैं कि उनका प्राइवेट पार्ट किसी काम का नहीं है। यही एसेंस अब द कपिल शर्मा शो में आता जा रहा है।

वे वरिष्ठ कलाकार अरुण गोविल को कह सकते हैं कि जब आप बीच पर नहा रहे होते हैं तो वहां लोग आपको देखकर कहते होंगे देखो राम जी अंडरवियर में नहा रहे हैं। ये वाला मज़ाक उनके मजबूत टीआरपीनुमा किले में दरार पड़ने जैसा था। अरुण गोविल की छवि इस देश में एक अभिनेता से कहीं ऊँची है।
सफलता के मद में चूर कपिल ये भी नहीं देखते कि सामने कौन बैठा है। क्या कपिल शर्मा अख़बार नहीं पढ़ते, क्या वे टीवी नहीं देखते, क्या वे सोशल मीडिया पर लोगों का मूड नहीं समझते। उनके हास्य में सम-सामयिक घटनाएं नहीं झलकती, उनके चुटकुलों में देशज भारत की छवि कभी नहीं दिखाई देती।
ऐसा हास्य केवल राजू श्रीवास्तव के पास है। देश के नंबर वन कॉमेडियन होने के नाते उनको इन बातों की समझ होनी चाहिए लेकिन वे तो अब अश्लीलता और भौंडेपन का सहारा लेकर टीआरपी चमकाए हुए हैं। यदि वे फेसबुक पर वीडियो देखना शुरू करे तो शायद उनको उस ग्रामीण वृद्ध महिला का वीडियो मिल सकता है।

वह महिला शाम सात बजे आरती की थाली लेकर अर्नब गोस्वामी की प्रतीक्षा करती है। ऐसा ही प्रभाव कभी अरुण गोविल का हुआ करता था। कपिल को ये अधिकार है कि वह अपने शो में किसी का भी मज़ाक बनाए, जैसे अर्नब का बनाया गया। लेकिन ऐसा करके वे अपने ही शो में आग लगा रहे हैं। ये प्रतिशोधात्मक हास्य उनको बहुत भारी पड़ने भी लगा है।
कपिल शर्मा के नए सीजन की टीआरपी गिरकर 4.3 रह गई है। बॉलीवुड ने मुंबई में एनसीबी के एक्शन और उस पर हो रहे मीडिया कवरेज पर प्रतिक्रिया के लिए कपिल के शो को माध्यम बनाया है। अर्नब की भौंडी नकल बॉलीवुड की प्रतिक्रिया है। आश्चर्य मत कीजियेगा कि अगले साल तक करण जौहर के प्रोडक्शन में एक ऐसी फिल्म बन जाए, जो नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो के ड्रग्स के विरुद्ध अभियान को प्रस्तुत करे।
और हाँ इसमें एनसीबी की प्रशंसा की उम्मीद मत लगाइएगा। ये फिल्म निश्चित ही इस अच्छे अभियान के खिलाफ बनाई जाएगी। अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता को वे हथियार बनाकर जनमानस की स्वाभाविक प्रतिक्रिया के खिलाफ प्रयोग करेंगे। और वे कपिल शर्मा शो के जरिये ऐसा कर भी रहे हैं। वे इसलिए चिढ़े हुए हैं क्योंकि आपने उन्हें देखना बंद कर दिया है।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.