किडनैपर्स के चंगुल से 12 घंटे के अंदर अगवा 12 साल के बच्चे को पुलिस ने सकुशल छुड़ाया… रेस्क्यू टीम के लिए इनाम का ऐलान

रायगढ़। रायगढ़ पुलिस ने 12 घंटे के अंदर अगवा 12 साल के लड़के को किडनैपर्स के चंगुल से सकुशल छुड़ा लिया। आरोपियों ने परिजनों से 5,00,000 फिरौती की मांग की थी । घटना की सूचना पर तत्काल एक्शन में आए अफसरों ने तत्काल रात में ही चौकी रैरूमा पहुंचे । एसपी रायगढ़ चौकी रैरूमा पहुंचकर एक टीम अपहृत बालक की रेस्क्यू के लिये तैयार किये और उन्हें हथियार से लैस कर जंगल अंदर रवाना किए । पुलिस टीम ने आरोपियों के मंसूबे पर पानी फेर कर लड़के को सकुशल बरामद किया गया है । गिरफ्तार आरोपियों में एक आरोपी हाल ही में चोरी के मामले में शामिल था । आरोपियों न 1 माह पूर्व से किडनैपिंग की फुल प्रूफ प्लानिंग किए हुए थे। गुरुवार रात में ही पुलिस अधीक्षक रायगढ़ ने पुलिस महानिदेशक डी.एम. अवस्थी एवं बिलासपुर रेंज पुलिस महानिरीक्षक दीपांशु काबरा को फिरौती के लिये हुई घटना से अवगत कराया । वरिष्ठ अधिकारियों द्वारा एसपी रायगढ़ को महत्वपूर्ण दिशा निर्देश दिया गया जिन्हें बालक के रेस्क्यू दौरान अमल में लाया गया और रायगढ़ पुलिस को सफलता हाथ लगी है ।

जानकारी के अनुसार कल दिनांक 24.12.2020 के शाम पुलिस चौकी रैरूमा थाना धरमजयगढ़ अंतर्गत ग्राम बरहामड़ा में रहने वाले संजू बड़ा द्वारा पुलिस चौकी आकर उसके 12 वर्षीय बालक राहुल बड़ा को अज्ञात आरोपियों द्वारा किडनैप कर मोबाइल में ₹5,00,000 की फिरौती के लिए कॉल किए जाने की जानकारी दिया गया । चौकी प्रभारी उपनिरीक्षक जेम्स मिंज तत्काल घटना की जानकारी एस.पी. रायगढ़ शसंतोष कुमार सिंह को दिए । मामले की गंभीरता को देखते हुए पुलिस अधीक्षक द्वारा एडिशनल एसपी रायगढ़ अभिषेक वर्मा, सहायक पुलिस अधीक्षक पुष्कर शर्मा, एसडीओपी धरमजयगढ़ सुशील नायक को रैरूमा के लिए रात में ही रवाना किए साथ ही चौकी प्रभारी जूटमिल, थाना प्रभारी घरघोड़ा, धरमजयगढ़, तमनार, लैलूंगा, कापू को अपने- अपने क्षेत्र में नाकेबंदी कर अपहृत बालक एवं आरोपियों की सघन जांच कर करने निर्देशित करते हुए पुलिस चौकी रैरूमा में एडिशनल एसपी रायगढ़ को रिपोर्ट करने निर्देशित किए ।

रात्रि में पुलिस चौकी रैरूमा पहुंचे एडिशनल एसपी द्वारा धरमजयगढ़ डिवीजन के थाना/चौकी प्रभारियों को अलग-अलग टास्क सौंपा गया । वहीं पुलिस टीम पीड़ित परिवार से पूछताछ कर रात्रि में गांव बरहामड़ा के लगभग 150 लोगों से पूछताछ किए । इधर पुलिस कंट्रोल रूम द्वारा पूरे जिले को हाई अलर्ट पर रखकर रात्रि में बच्चे और किडनैपर्स की तलाश में रखा गया था । अधिकारियों द्वारा पीड़ित परिवार से सूक्ष्मता से पूछताछ करने पर बालक के पिता ने बताया कि कुछ माह पूर्व अपनी पुश्तैनी जमीन बेचे हैं जिसमें प्राप्त हुए रुपयों से स्कॉर्पियो वाहन खरीदने की बात अपने जान परिचित से चर्चा किए थे । तब पुलिस टीम की जांच की दिशा फिरौती के लिए किडनैपिंग होने की पुष्टि हुई और जांच टीम द्वारा संदिग्ध /आरोपी किस्म के व्यक्तियों की खोजबीन की ओर तेज हुई। इसी दरमियान चोरी मामले में पकड़ा गया संदिग्ध अरूण टोप्पो ग्राम धौंरागांव बरपाली तथा उसके गांव विकास तिर्की जो राउरकेला (ओडिसा) में बिजली पोल लगाने का काम करता था जो लॉक डाउन में जॉब छूट जाने पर गांव आकर रह रहा था ।

उसकी संलिप्तता इस किडनैपिंग में होने की अपुष्ट जानकारी मिली, तब विकास तिर्की, अरूण टोप्पो एवं उसके एक साथी को संदेह के दायरे में रखा गया , तीनों कल से गांव में नहीं रहने की जानकारी मिली जिससे इन पर संदेह और गढ़ता गया । सुबह पुलिस की एक टीम को सूचना मिली कि जंगल भीतर तीन नकाबपोश एक बालक का हाथ, पैर बांधकर रखे हुए हैं । सुबह तक पुलिस पार्टी को पुख्ता जानकारी मिल चुकी थी कि हथियारबंद किडनैपर्स बालक को जंगल भीतर रखे हुए हैं । इसी बीच भी संतोष कुमार सिंह चौकी रैरूमा पहुंचे। एडिशनल एसपी से घटनाक्रम व प्रोग्रेस की जानकारी लेकर उनके द्वारा बालक के रेस्क्यू के लिये एडिशनल एसपी के नेतृत्व में टीम तैयार कर अधिकारियों के साथ चौकी में मीटिंग लिये और रेस्क्यू के संबंध में महत्वपूर्ण दिशा निर्देश दिये ।

हथियारों से लैस होकर जंगल रेस्क्यू के लिये रवाना हुई पुलिस पार्टी की योजना यह थी कि किसी भी हालात में बालक की सकुशल बरामदगी होनी चाहिए । आरोपियों को रेस्यूलक टीम द्वारा जंगल में चारों ओर से घेराबंदी की भनक लग चुकी थी वे बालक के साथ अप्रिय कृत्य कर भागने की फिराक में थे । तभी पुलिस पार्टी एकाएक मौके पर पहुंची और आरोपियों को चारों ओर से गन पाइंट में लिया गया जिससे तीनों आरोपियों की योजना धरी की धरी रह गई और तीनों पकड़े गए । रात्रि से सुबह करीब 12 घंटे के संघर्ष के बाद तीन आरोपीगण-विकास तिर्की, अरूण टोप्पो और रामेश्वर मांझी तीनों निवासी धौंरागांव बरपाली रैरूमा पुलिस की पकड़ में थे । बालक को सकुशल बरामद कर उनके परिजनों से मिलाया गया ।

घटनास्थल पर पुलिस को 03 मोबाइल, 03 चाकू, मोटरसाइकिल और बालक की साइकिल मिली है । तीनों आरोपियों से कड़ी पूछताछ करने पर पुलिस की जांच सही निकली किडनैपिंग का मास्टरमाइंड विकास तिर्की निकला। आरोपी विकास को जानकारी थी कि अपहृत बालक का पिता हाल ही में अपनी पुश्तैनी जमीन को बड़ी रकम में बेचा है और उसके पास काफी रुपए हैं और लूट और किडनैपिंग दोनों की प्लानिंग बनाया हुआ था और इसके लिये अपने दो अन्य साथियों को मिलाया । जब किडनैपिंग आसान लगा तो दिनांक 24.12.2020 के शाम बालक राहुल बड़ा गेहूं लेकर गांव के हालर गया था तो वहां से उसे किडनैप कर जंगल ले गए और रातभर बालक का हाथ पैर बांधकर रखे हुए थे ।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.