बिलासपुर में एक बार फिर प्रतिबंधित गौ मांस विक्रय का मामला सामने आया:हिंदू संगठनों और गौ रक्षकों को लगी भनक

पवन निर्मलकर, बिलासपुर में एक बार फिर प्रतिबंधित गौ मांस विक्रय का मामला सामने आया है । तारबहार थाना बिलासपुर क्षेत्र मे नया मस्जिद के पास तिरती बढई शंकुतला एलिएट , प्रथमेश एलिएट , बाबु , अपने घर पर विश्रामपुर रायपुर से लाकर 180 रू किलो के भाव से गौ मांस बेच रहे थे । बताया जा रहा है कि इन लोगों द्वारा यह कार्य लंबे अरसे से बेरोकटोक किया जा रहा है , क्योंकि इस क्षेत्र में बड़ी संख्या में गौ मांस के खरीददार है ।इसलिए यह उनकी आवश्यकता की पूर्ति बाहर से गौ मांस लाकर करते हैं , जिसकी भनक आज तक ना तो पुलिस को लगी और ना ही अन्य संगठनों को । लेकिन इसकी भनक कुछ हिंदू संगठनों और गौ रक्षकों को लग गई जिसके बाद विपुल शर्मा , समीर शुक्ला , राम सिह , करण गोयल , मयंक शुक्ला , पवन निर्मलकर ,विजेन्द्र गोरखा, महेन्द्र राणा इश्वर रजक , अजीत सिह , रुपेश शुक्ला , अनिवेश गोरख , राहूल नारवानी , राजीव शर्मा , देवेश तिवारी , आदित्य कछवाहा , संदीप पाठक और लोग मौके पर पहुंचे और अपनी आंखों से गौ मांस की खरीदी – बिक्री देखी । इसके बाद उनके द्वारा इसकी सूचना तारबाहर पुलिस को दी गई ।सूचना पाकर पुलिस ने फौरन कार्रवाई की और सभी आरोपियों को गौ मांस के साथ रंगे हाथों पकड़ लिया , जिनके खिलाफ धारा 295 क , छत्तीसगढ कृषक परिरक्षण अधिनियम की धारा 10 क और धारा य 34 का तहत अपराध पंजीकृत किया गया है ।उत्तर प्रदेश जैसे कुछ राज्यों में गौ हत्या और गौ मांस विक्रय के खिलाफ सख्त कानून है । छत्तीसगढ़ में भले ही वैसे सख्त कानून ना हो लेकिन यहां भी गौ मांस विक्रय प्रतिबंधित है ।

खास बात यह है कि ऐसा कर कुछ लोग हिंदू भावनाओं के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं , जिससे यहां की शांति व्यवस्था भंग होने का डर बना रहता है । यही कारण है कि पुलिस ने त्वरित कार्यवाही करते हुए गौ मांस बेचने वाले लोगों को धर दबोचा ।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.